June 25, 2024

चंद्रयान-3

चंद्रयान-3

Chandrayaan-3 – Mission Profile

चंद्रयान-3 चंद्रयान-2 के बाद का एक मिशन है, जिसमें एक स्वदेशी लैंडर मॉड्यूल (एलएम), प्रोपल्शन मॉड्यूल (पीएम) और रोवर शामिल है। इसका उद्देश्य अंतरग्रहीय मिशनों के लिए आवश्यक नई तकनीकों को विकसित और प्रदर्शित करना है लैंडर और रोवर के पास चंद्र सतह पर प्रयोग करने के लिए वैज्ञानिक उपकरण हैं।

प्रोपल्शन मॉड्यूल (पीएम) का मुख्य कार्य एलएम को लॉन्च व्हीकल इंजेक्शन से अंतिम चंद्र 100 किमी गोलाकार ध्रुवीय कक्षा तक ले जाना और एलएम को पीएम से अलग करना है। इसके अलावा, प्रणोदन मॉड्यूल में वैज्ञानिक उपकरण भी है, जिसे लैंडर मॉड्यूल के अलग होने के बाद संचालित किया जाएगा।

चंद्रयान-3 के लिए लॉन्चर जीएसएलवी-एमके3 है, जो मॉड्यूल को ~170×36500 किमी आकार के एलिप्टिक पार्किंग ऑर्बिट (ईपीओ) में स्थापित करेगा।
चंद्रयान-3 के मिशन के उद्देश्य हैं:

  • सतह पर सुरक्षित और सॉफ्ट लैंडिंग का प्रदर्शन करना।
  • रोवर को चंद्रमा पर भ्रमण का प्रदर्शन करना।
  • वैज्ञानिक प्रयोग करना।

मिशन के उद्देश्यों के लिए लैंडर में कई उन्नत प्रौद्योगिकियां मौजूद हैं जैसे –

  • अल्टीमीटर: लेजर और आरएफ आधारित अल्टीमीटर
  • वेलोसीमीटर : लेजर डॉपलर वेलोसीमीटर और लैंडर हॉरिजॉन्टल वेलोसिटी कैमरा
  • जड़त्वीय मापन: लेजर गायरो आधारित जड़त्वीय संदर्भ और एक्सेलेरोमीटर
  • प्रोपल्शन प्रणाली
  • नेविगेशन, गाइडेंस एंड कंट्रोल प्रणाली (NGC)
  • खतरे का पता लगाना और बचाव का तंत्र

Latest Update 

isro moon mission chandrayaan 3 status

chandrayaan 3 landing date and time

चंद्रयान-3 का लॉन्च 14 जुलाई 2023 को भारतीय मानक समय (आईएसटी) के दोपहर 2:35 बजे हुआ और पहले चरण के रूप में 100 किमी के वृत्ताकार ध्रुवीय कक्ष में चंद्रयान-3 का सफलतापूर्वक लूनर इंजेक्शन पूरा हुआ। लैंडर और रोवर की अपेक्षित तारीख चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुवीय क्षेत्र के पास उतरने के लिए 23 अगस्त 2023 है।

चंद्रयान 3 के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें – https://www.isro.gov.in/ISRO_EN/Chandrayaan3_Details.html